SEARCH
Log in
त्यौहार
0

क्रिसमस

I am text block. Click edit button to change this text.

क्रिसमस या बड़ा दिन ईसा मसीह या यीशु के जन्म की खुशी में मनाया जाने वाला पर्व है। यह 25 दिसम्बर को पड़ता है और इस दिन लगभग संपूर्ण विश्व मे अवकाश रहता है। क्रिसमस से 12 दिन के उत्सव क्रिसमसटाइड की भी शुरुआत होती है। एन्नो डोमिनी काल प्रणाली के आधार पर यीशु का जन्म, 7 से 2 ई.पू. के बीच हुआ था। 25 दिसम्बर यीशु मसीह के जन्म की कोई ज्ञात वास्तविक जन्म तिथि नहीं है और लगता है कि इस तिथि को एक रोमन पर्व या मकर संक्रांति (शीत अयनांत) से संबंध स्थापित करने के आधार पर चुना गया है। आधुनिक क्रिसमस की छुट्टियों मे एक दूसरे को उपहार देना, चर्च मे समारोह और विभिन्न सजावट करना शामिल है। इस सजावट के प्रदर्शन मे क्रिसमस का पेड़, रंग बिरंगी रोशनियाँ, बंडा, जन्म के झाँकी और हॉली आदि शामिल हैं। सांता क्लॉज़ (जिसे क्रिसमस का पिता भी कहा जाता है हालाँकि, दोनों का मूल भिन्न है) क्रिसमस से जुड़ी एक लोकप्रिय पौराणिक परंतु कल्पित शख्सियत है जिसे अक्सर क्रिसमस पर बच्चों के लिए तोहफे लाने के साथ जोड़ा जाता है। सांता के आधुनिक स्वरूप के लिए मीडिया मुख्य रूप से उत्तरदायी है। क्रिसमस को सभी ईसाई लोग मनाते हैं और आजकल कई गैर ईसाई लोग भी इसे एक धर्मनिरपेक्ष, सांस्कृतिक उत्सव के रूप मे मनाते हैं। क्रिसमस के दौरान उपहारों का आदान प्रदान, सजावट का सामन और छुट्टी के दौरान मौजमस्ती के कारण यह एक बड़ी आर्थिक गतिविधि बन गया है और अधिकांश खुदरा विक्रेताओं के लिए इसका आना एक बड़ी घटना है। दुनिया भर के अधिकतर देशों में यह २५ दिसम्बर को मनाया जाता है। क्रिसमस की पूर्व संध्या यानि 24 दिसम्बर को ही जर्मनी तथा कुछ अन्य देशों में इससे जुड़े समारोह शुरु हो जाते हैं। ब्रिटेन और अन्य राष्ट्रमंडल देशों में क्रिसमस से अगला दिन यानि 26 दिसम्बर बॉक्सिंग डे के रूप मे मनाया जाता है। कुछ कैथोलिक देशों में इसे सेंट स्टीफेंस डे या फीस्ट ऑफ़ सेंट स्टीफेंस भी कहते हैं। आर्मीनियाई अपोस्टोलिक चर्च 6 जनवरी को क्रिसमस मनाता है पूर्वी परंपरागत गिरिजा जो जुलियन कैलेंडर को मानता है वो जुलियन वेर्सिओं के अनुसार २५ दिसम्बर को क्रिसमस मनाता है, जो ज्यादा काम में आने वाले ग्रेगोरियन कैलेंडर में 7 जनवरी का दिन होता है क्योंकि इन दोनों कैलेंडरों में 13 दिनों का अन्तर होता है।
कई संस्कृतियों में एक सर्दियों का त्यौहार परंपरागत तरीके से मनाया जाने वाला सबसे लोकप्रिय त्योहार था। इसके वजा थी कम कृषि कार्य होता था और उत्तरी गोलार्द्ध (Northern Hemisphere). में सर्दियों के उच्चतम (winter solstice) होने के कारण लौमीद करते The की दिन लंबे और रात छोटी होगी संक्षिप्त मैं, क्रिसमस का त्यौहार पहेले के च्रुचों द्वारा मानना शरू किरु किया गया यह सूच के की इससे पगन रोमंस अपना धर्म बदल कर ईसाई धर्मअपना लें और साथ ही अपने भी सर्दियों के सारे त्यौहार मना लेंगे. कुछ khas देवी देवता जिसे उस पन्त के लोग मानते हैंउनका भी जनम दिन दिसम्बर २५ को मनाया जाता था। इसमे प्रमुख है इश्टर (Ishtar), बब्य्लोनियन गोद्देस्स ऑफ़ फेर्तिलिटी, लव, एंड वार, सोल इन्विक्टुस (Sol Invictus) एंड मिथ्रास (Mithras). आधुनिक युग के क्रिसमस मना के तर्रेके में उत्सव का आनद उठाने के साथ उपहारों का भी आदान प्रदान होता है। इसके अलावा आनद लेने के लिए रोमंस सतुर्नालिया (Saturnalia) ग्रीनरी, लायीट्स तथा रोमंस के नए साल (Roman New Year) की पवित्रता; और युले की लकडियों पे तरह-तरह के पकवान बनते हैं जो तयूतोनिक (Teutonic) फेअस्ट्स में शामिल थे। ऐसे परम्परा कहता हैं की निम्नलिकित सर्दियों के त्योहारों से प्रेरित (syncretised) है
क्रिसमस का पेड़ को अक्सर बुतपरस्त (pagan) परंपरा और अनुष्ठान के ईसाईता के रूप में जाना जाता है और तकालीन उच्चतम शिखर के आस पास सदाबहार (evergreen) टहनियों और बुतपरस्ती का एक रूपांतर पेड़ की पूजा (tree worship). ऐ पिसमे शामिल होती है अंग्रेजी भाषा मे कहा जाने वाला वाक्यांश क्रिसमस ट्री सबसे फेले 1835 मे दर्ज किया गया और ये जर्मन भाषा के एक आयत का प्रतिनिधित्व करता है आज के युग का क्रिसमस ट्री का रिवाज़ मन जाता है की जर्मनी में 18वि शाताब्दी मे किया गया, जबकि बहुत लोग इस बात पैर बहस करते है की इसे मार्टिन लुथेर ने 16वि शाताब्दी मे शुरू किया जर्मनी से इंग्लैंड में सबसे पहले इस प्रथा को कुइन चर्लोत्ते (Queen Charlotte),जॉर्ज III (George III) की पत्नी ने शुरू किया था पर इसे ज्यादा सफलतापूर्वक प्रिंस अलबर्ट (Prince Albert) ने कुइन विक्टोरिया के शासन में आगे बढाया. लगभग उसी समय, जर्मन आप्रवासी संयुक्त राज्य में यह प्रथा शुरू की. क्रिसमस पेड की सजावट रौशनी (lights) और गहने (ornaments) से भी होती है
19 वीं सदी के बाद से पोंसेत्तिया (poinsettia) क्रिसमस के साथ जोड़ा जाने लगा.अन्य लोकप्रिय छुट्टी के पौधों में शामिल हैं हॉली (holly), बंडा (mistletoe) लाल, अमर्य्ल्लिस (amaryllis) और क्रिसमस कैक्टस (Christmas cactus).क्रिसमस के पेड के अतिरिक्त घरों के अन्दर दूसरे पौधों से भी सजाया जाता है जिसमे माला (garlands) और सदाबहार (evergreen) पत्ते. शामिल हैं
ऑस्ट्रेलिया उत्तरी और दक्षिण अमेरिका और europe का कुछ हिस्सा पारंपरिक रूप से सजाया जाता है जिसमे घर के बहार की बत्तियों से सजावट बेपहियों की गाड़ी (sleigh)s, snowmen (snowmen) और अन्य क्रिसमस के मूरत शामिल होते हैं नगर पालिका भी अक्सर सजावट करते हैं क्रिसमस के पताका स्ट्रीट लाइट (street light) से टंगा होता है और शहर के हर वर्ग में क्रिसमस के पोधे रखे जाते हैं
पश्चिमी दुनिया (Western world) में रंगीन कागजों पे धर्मनिरपेक्ष या धार्मिक क्रिसमस मोटिफ्स चप्पा हुआ कागज़ का रोल निर्मित करते हैं जिसमे लोग अपने उपहार लपेटेते हैं क्रिसमस गाँव (Christmas village) का प्रदर्शन भी कई घरों में इस मौसम में एक परम्परा बन गया है। बाकी पारंपरिक सजावट में घंटी (bells)मोमबत्ती (candles)कैंडी कंस (candy canes)बड़े मोजे (stockings)पुष्पमालाएं (wreaths) और स्वर्गदूतों.शामिल होते हैं
क्रिसमस की तयारी 12वां दिन (Twelfth Night) को उतारी जाती है जो जनवरी 5की शाम का दिन होता है

Share:
  • googleplus
  • linkedin
  • tumblr
  • rss
  • pinterest
  • mail

Written by admin

There are 0 comments

Leave a comment

Want to express your opinion?
Leave a reply!

Leave a Reply